VANDANA LUTHRA : जानिए कैसे एक महिला ने 2000 रुपये से 16 देशों में फैलाया कामयाबी का साम्राज्य

0
69
VANDANA LUTHRA

“स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है”

SUCCESS STORY OF VANDANA LUTHRA : ऊपर दी गई कहावत में ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि यदि हमारा शरीर स्वस्थ है तो हमारा ध्यान बिना किसी अवरोध के लक्ष्य की ओर केंद्रित रहता है. लेकिन हम स्वास्थ्य को सिर्फ़ बाहरी सुंदरता के पैमाने पर ही आंकते है.

असल में सुंदर होना क्या है? सुन्दर होने का ताल्लुक केवल चेहरे की सुंदरता से नहीं होता है. आप सुंदर दिखाई देने के लिए अपने चेहरे पर चाहे कितना ही अच्छा मेकअप क्यों ना कर ले लेकिन यदि आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं है तो उसे आपका मेकअप भी ज़्यादा देर तक नहीं छिपा सकता.

असली सुंदरता तो वह है जो अपने दांत, त्वचा, बाल आदि सभी के विषय पूर्ण रूप से जागरूक है और जो स्वस्थ है वही असल मायनों में सुन्दर है. आज के इस भागदौड़ के दौर में खूबसूरती के इन्हीं असली मायनों को समझा रहा है वी.एल.सी.सी (VLCC).

वी.एल.सी.सी (VLCC) एक ऐसी कंपनी है जिससे हर व्यक्ति वाकिफ़ ज़रूर है और हो भी क्यों नही. वी.एल.सी.सी लोगों को उनके शरीर और स्वास्थ्य की सुंदरता को ध्यान में रखते हुए संवारता है. वी.एल.सी.सी (VLCC) की कमान जिस सशक्त हाथों में है वो स्वयं भी महिला सशक्तिकरण का जीता जागता उदाहरण हैं. हम बात कर रहे हैं वी.एल.सी.सी (VLCC) की संस्थापिका पद्मश्री वंदना लूथरा (VANDANA LUTHRA) के बारे में.

इंसान अगर सकारात्मक दिशा, अपनी लगन और कुछ कर गुजरने के जुनून के साथ किसी लक्ष्य को चाहे तो उसके लिए कुछ भी करना नामुमकिन नहीं है. वंदना लूथरा स्वयं इन बातों का साक्षात प्रमाण है. वह महिलाओं में छुपी हुई असीम क्षमताओं का एक उदाहरण हैं जो पुरानी रूढ़ियों को तोड़कर सतत आगे बढ़ने की प्रेरणा प्रदान करती है.

यह भी पढ़े : NAVEEN JAIN : लोगों को आयडिया सुनाया तो पागल कहा था, 2 सालों में ही बन गई 2 लाख करोड़ की कंपनी

VANDANA LUTHRA

VANDANA LUTHRA ‘पद्मश्री’ से सम्मानित हो चुकी है

वंदना लूथरा को औद्योगिक क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान करने के लिए भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘पद्मश्री’ से भी नवाजा गया है. वर्तमान में उनके द्वारा संचालित वी.एल.सी.सी उन कंपनियों में शुमार है, जिन्होंने महिलाओं को रोजगार और रोजगार संबंधी तकनीक मुहैया कराने के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के साथ समझौता किया है. यह समझौता महिला सशक्तिकरण की दिशा में उठाया गया महत्वपूर्ण क़दम है.

वंदना लूथरा भी अन्य आम महिलाओं की तरह एक गृहिणी हैं लेकिन उन्होंने जो सपना देखा उसे अपनी मेहनत ओर हौंसले के दम पर पूरा कर दिखाया. वंदना लूथरा ने जब फिटनेस के व्यवसाय में कदम रखने का निर्णय लिया तो उससे पहले उन्होंने उस क्षेत्र में उच्च शिक्षा प्राप्त करने का फैसला किया, जिससे वे फिटनेस की बारीकियों को जान सकें.

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए उन्होंने ग्रेजुएशन के बाद जर्मनी में न्यूट्रीशन एवं कोस्मेटोलॉजी में उच्च शिक्षा प्राप्त की. उसके बाद में उन्होंने लन्दन, म्यूनिख और पेरिस में ब्यूटी केयर, फिटनेस फ़ूड एंड न्यूट्रीशियन, स्किन केयर में कई स्पेशलाइज्ड कोर्स भी किये और उसके बाद जब उन्होंने इस व्यवसाय में कदम रखा तो उस समय कुछ गिनी–चुनी महिलाएं ही उद्यमी के तौर पर मार्केट में दिखाई दी.

यह भी पढ़े : K.C. MAHINDRA : हिंदुस्तानी और पाकिस्तानी दोस्त ने मिलकर रखी थी दो लाख करोड़ रुपये के इस भारतीय कंपनी की नींव

VANDANA LUTHRA

2000 रुपए से शुरू की VLCC

जब वंदना ने शुरुआत की तो उस उस समय उनकी जेब में मात्र दो हजार रुपए की राशि के साथ उनके द्वारा सफलता के लिए देखे गए सपने भी थे. मात्र 2 हजार रुपये की अपनी छोटी सी बचत की रकम के साथ उन्होंने साल 1989 में दिल्ली में वी.एल.सी.सी (VLCC) का शुभारम्भ किया. शुरुआत के समय वी.एल.सी.सी (VLCC) भारत का पहला ट्रांस्फोर्मेशन सेंटर था.

VLCC की शुरुआत के कुछ समय बाद ही वंदना ने बैंक से लोन लिया और एक ऐसे फील्ड में पांव रखा हिसके बारे में उन्हें जरा भी अनुभव नहीं था. उनके पास था तो सिर्फ़ अपने सपनों को पूरा करने का जुनून. उस समय वी.एल.सी.सी (VLCC) भारत का पहला ट्रांस्फोर्मेशन सेंटर था.

शुरुआत में लोगों का विश्वास जीतते हुए उनके बीच अपनी पहचान बना पाने के लिए उन्हें बहुत सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ा. उस समय में लोग ब्यूटीपार्लर से तो वाकिफ़ थे लेकिन ट्रांसफॉर्मेशन सेंटर उनके लिए बिलकुल ही नया था. इसके अलावा उस समय लोगों में एक महिला की व्यवसायिक क्षमताओं को लेकर भी आशंका रहती थी.

वंदना लूथरा इस बारे में बताती हैं कि “उस समय मेरे सामने आ रही कई तरह की कठिनाईयों को पार करने का एक ही तरीका था कि मैं अपनी पूरी मेहनत और लगन के साथ काम करूं ताकि लोगों को यह अहसास हो जाए कि मेरे बिजनेस में जान है. जल्द ही, मेरी वह मेहनत रंग लाई. मुझे मेरे सब्र का फल मिलने लगा और उसके बाद मैंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा.

जस्सी जैसी कोई नही के बाद से फैला कारोबार

जब व्यक्ति मेहनत करता है तो समय भी उसका साथ अवश्य देता है समय ने भी वंदना लूथरा का साथ दिया और उस समय एक सीरियल शुरू हुआ ‘जस्सी जैसी कोई नहीं’, उसकी मेन लीड यानी जस्सी उस समय अपने लुक्स के कारण बहुत ही ज़्यादा फेमस हुई थी. सीरियल में कुछ समय बाद उसका मेकओवर किया जाता है और उसके बाद वो साधारण से बहुत ही ग्लैमरस बन जाती है.

हर दिन के साथ उसका रूप निखरता रहता है और फाइनल तक वह एक बहुत ही खबसूरत ओर मॉडर्न लड़की बन जाती है. उस सीरियल के दौरान वी.एल.सी.सी ने पहली बार यह मेकओवर टीवी पर किया था, जो की लोगों के बीच इतना लोकप्रिय हुआ कि महिलाओं ने उसे देखते हुए अपने रूटीन लुक को बदलने के लिए घर से बाहर कदम बढ़ाने शुरू कर दिए.

वंदना और वी.एल.सी.सी के लिए यह मेकओवर एक टर्निंग पॉइंट साबित हुआ. वही से उन्होंने इस बारे में अनुभव किया कि लड़कियां और महिलाएं किस तरह से खुद को एक नए रूप में बदलने के लिए तैयार हैं. जबकि उससे पहले वे अपने सामान्य लुक्स को लेकर सिर्फ़ परेशान रहती थीं. उस तरह का ट्रांसफॉर्मेशन उनके लिए एक नई और अधिक कारगर चीज साबित हुई. उसी के साथ ही महिलाओं के आत्मविश्वास में भी वृद्धि हुई.

आज अपनी शुरुआत के बाद से ही वी.एल.सी.सी लगातार तरक़्क़ी के पथ पर अग्रसर है. सिर्फ़ इतना ही नहीं है बल्कि वी.एल.सी.सी (VLCC) एशिया की सबसे बड़ी वेलनेस कंपनियों में भी शामिल हो गई है. इसी के साथ ही भारत के वेलनेस सेक्टर को भी एक नया स्वरूप प्रदान किया है.

यह भी पढ़े : NAVEEN JAIN : लोगों को आयडिया सुनाया तो पागल कहा था, 2 सालों में ही बन गई 2 लाख करोड़ की कंपनी

VANDANA LUTHRA

VLCC में है महिलाओं का वर्चस्व

वी.एल.सी.सी (VLCC) की सफलता का सारा श्रेय यदि किसी को जाता है तो वो वह वंदना लूथरा का नाम है, जिन्होंने उस दौर में एक उद्यमी बनने का सपना देखा और उसे सच कर दिखाया. आज वंदना के प्रयासों के फलस्वरूप उनकी कंपनी के सेंटर 16 देशों के 121 शहरों में 300 से अधिक स्थानों पर फैले हुए हैं.

इसी के साथ वी.एल.सी.सी अपने स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिए भी योगदान दे रही है. VLCC कंपनी के द्वारा एंटरप्रेन्यारशिप फॉर वुमेन प्रोग्राम के तहत महिलाओं में उद्यम को बढ़ावा देकर उचित अवसर उपलब्ध करवाएं जाते हैं.

वर्तमान में देश में कंपनी के 10 में से 7 विभागों के प्रमुख पद पर महिलाओं का होना ही कंपनी में महिलाओं के वर्चस्व को सिद्ध करता है. इसके अलावा कंपनी के 13 देशों में 300 से ज्यादा सभी रिटेल आउटलेट की लीड मैनेजर के पद पर महिलाएं ही कार्य कर रही हैं.

अपनी कड़ी मेहनत और क़ाबिलियत के दम पर वंदना लूथरा आज ब्यूटी और फिटनेस के क्षेत्र में एक लोकप्रिय नाम है. उनकी कंपनी वी.एल.सी.सी (VLCC) ने आज लोगों के बीच अपनी विशेष साख बनाते हुए भारत में अपनी अलग ओर विशेष पहचान भी बनाई है.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके.

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here