IAS ARTIKA SHUKLA : MBBS, MD के बाद आइएएस परीक्षा में प्राप्त की सफलता

0
142
IAS ARTIKA SHUKLA

अगर जीवन में सफलता प्राप्त करनी है तो मेहनत पर विश्वास करें! किस्मत की आजमाईश तो जुए में होती हैं..

IAS ARTIKA SHUKLA SUCCESS STORY : बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी की रहने वाली अर्तिका शुक्ला (IAS ARTIKA SHUKLA) बचपन से ही पढ़ाई में हमेशा से अव्वल आती थीं. फिर चाहे स्कूल हो या कॉलेज उनका नाम हमेशा टॉपर्स लिस्ट में ही रहता था.

यूपीएससी की तैयारी से पहले अर्तिका एमबीबीएस (MBBS) ओर एमडी (MD) की परिक्षाए भी पास कर चुकी है किंतु इन सबके बावजूद वे मानती है कि जब आप यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा की तैयारी शुरू करते है तो आपको अपनी शुरुआत जीरो से ही करनी होती है. यूपीएससी की तैयारी के लिए हर व्यक्ति को पेशेंस, फोकस्ड स्टडी, पहाड़ से भी अटल इरादे के साथ में सही स्ट्रेटजी ओर बहुत मेहनत की आवश्यकता होती है.

अर्तिका मानती है की दिन में 14 या 16 घंटे पढ़ाई वाली बात प्रैक्टिकल रूप से संभव नही है. अगर कोई व्यक्ति सही तरीक़े से प्लानिंग और फोकस्ड होकर स्टडी करे तो दिन में 4 से 5 घंटे की पढ़ाई ही काफी हैं. इसके अलावा इस परीक्षा की तैयारी के लिए आपको सेल्फ़ मोटिवेशन की सबसे ज़्यादा आवश्यकता होती है.

यह भी पढ़े : IAS NITIN SHAKYA : कभी 12 वीं मे फैल होने के डर से स्कूल वालों ने नहीं दिया एडमिट कार्ड आज वही है एक आईएएस अधिकारी

IAS ARTIKA SHUKLA की फैमिली

अर्तिका शुक्ला की फैमिली मूल रूप से उत्तरप्रदेश के वाराणसी से है. अर्तिका के पिता बृजेश शुक्ला जोकि पेशे से एक डॉक्टर हैं, ओर उनकी मां लीना शुक्ला जोकि होममेकर हैं. माता-पिता के अलावा अर्तिका के दो बड़े भाई गौरव शुक्ला और उत्कर्ष शुक्ला हैं. अर्तिका के दोनों भाइयों ने भी यूपीएससी की परीक्षा पास की है.

इनके सबसे बड़े भाई गौरव शुक्ला वर्तमान समय में एक आईएएस ऑफिसर हैं उन्होंने वर्ष 2012 में यूपीएससी परीक्षा पास की. अर्तिका के दूसरे भाई उत्कर्ष ने भी यूपीएससी परीक्षा पास की ओर उसके बाद वे आईआरटीएस में ऑफिसर हैं.

यह भी पढ़े : IAS MADHAV GITTE : अपने सपने के लिए अपना सब कुछ गिरवी रखते हुए खेतों में काम कर बने आईएएस अधिकारी

IAS ARTIKA SHUKLA की EDUCATION

अर्तिका की शुरुआती स्कूल की पढ़ाई सेंट जॉन स्कूल से हुई ओर यहाँ पर वे हमेशा नंबर वन रहीं. स्कूल की पढ़ाई के बाद उन्होंने मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज से अपना एमबीबीएस कम्प्लीट किया. इसके बाद अत्यधिक कठिन माने जाने वाले एमडी में भी उनका बड़ी ही आसानी से सेलेक्शन हो गया और वे पीजीआईएमईआर से एमडी कर रही थीं.

जब अर्तिका पीजीआईएमईआर से एमडी कर रही थी उसी दौरान उन्हें उनके बड़े भाई गौरव ने आईएएस परीक्षा देने का सुझाव दिया. अर्तिका ने बड़े भाई की बात को अहमियत देते हुए अपना एमडी बीच में ही रोक दिया ओर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी, अर्तिका ने यूपीएससी की तैयारी के लिए अपने भाई से मदद लेने के सिवाय सेल्फ़ स्टडी पर फ़ोकस किया ओर किसी प्रकार की कोचिंग नहीं ली.

अर्तिका परोक्ष रूप से देश ओर यहाँ की जनता के लिए बहुत कुछ करना चाहती थीं, इसलिए उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करने ओर आइएएस ऑफ़िसर बनने का फ़ैसला लिया ओर अपने पहले ही प्रयास में उन्होंने ऑल इंडिया AIR रैंक 04 के साथ साल 2015 में यूपीएससी क्वालिफ़ाई किया.

यह भी पढ़े : IAS TRUPTI ANKUSH : तीन बार असफलता के बावजूद नहीं टूटने दी हिम्मत, ऐसा रहा आईएएस का सफर

एक साल में की यूपीएससी की तैयारी

अर्तिका ने वर्ष 2014 में यूपीएससी के लिए अपनी प्रिपरेशन शुरू की ओर अगले वर्ष 2015 में इसे पास कर लिया. यूपीएससी के लिए कितने साल की तैयारी की आवश्यकता होती है इस बारे में पूछने पर वे जवाब देती है कि अगर इस परीक्षा की ठीक से तैयारी की जाए तो एक साल काफी है.

अर्तिका ने यूपीएससी प्री और मेन्स के लिए एक साथ में ही तैयारी करना शुरू कर दिया था. वे अपनी तैयारी के दौरान प्री परीक्षा के पहले प्री के लिए जैसे तीन घंटे पढ़ती थी ओर मेन्स के लिए एक घंटे ही पढ़ीं. अर्तिका का कहना हैं कि यूपीएससी प्री के एप्टीट्यूट टेस्ट को पास करना ज़्यादा मुश्किल नहीं है.

प्री में दसवी क्लास तक के मैथ्स, इंग्लिश आदि के प्रश्न आते हैं और यह पेपर स्टूडेंट के लिए सिर्फ़ क्वालीफाइंग होता है, ओर इसमें स्कोर करने जैसा कुछ नहीं होता. अगर बात जनरल एबिलिटी के टेस्ट की की जाए तो उसमें बहुत ही सामान्य टाइप के प्रश्न आते हैं. इसके लिए अगर आपने 12 वीं तक की एनसीईआरटी (NCERT) तक की किताबें पढ़ लीं और हर दिन अपने देश ओर विश्व में हो रही घटनाओं पर भी अपनी पैनी निगाह रख ली तो आप इस परीक्षा को बड़ी ही आसानी से पास कर सकते हैं.

इस परीक्षा की तैयारी के दौरान आप उन टॉपिक्स पर ज्यादा ध्यान दें जो की मेन्स परीक्षा में ही आते हैं. अगर आपकी अंग्रेज़ी ज़्यादा वीक है तो उसकी पढ़ाई अच्छे से करें. साथ ही साथ साइंस टेक्नोलॉजी, एनवायमेंट एंड इकोलॉजी की तैयारी के लिए करेंट अफेयर्स पढ़ें. इसके अलावा आप हर दिन न्यूज पेपर भी नियमित रूप से ज़रूर पढ़ें और प्री की परीक्षा देने से पहले कम से कम 20 से 25 टेस्ट पेपर ज़रूर दे.

यह भी पढ़े : IFS UPASANA MOHAPATRA : पहली बार में विफल होने के बावजूद नहीं हारी हिम्मत, दूसरे प्रयास मे प्राप्त की सफलता

IAS ARTIKA SHUKLA की यूपीएससी स्ट्रैटेजी

अर्तिका का कहना है कि यूपीएससी की तैयारी में मेंस के लिए आपको हर चीज़ का गहराई से ज्ञान होना आवश्यक है क्योंकि इसका सिलेबस सागर जैसा विशाल है. इसलिए स्टूडेंट के लिए जरूरी है कि आप प्री परीक्षा की तैयारी के साथ ही इसकी भी तैयारी शुरू कर दें ओर अगर आप एक एवरेज स्टूडेंट है तो अच्छे मार्क्स लाने के लिए अपने आंसर्स को इंप्रूव करने के लिए लगातार प्रयास करते रहे.

इस परीक्षा की तैयारी के लिए ऑप्शनल सब्जेक्ट का चुनाव हमेशा सोच समझ कर करे ओर वही सब्जेक्ट चुनें जिस पर आपकी पकड़ हो. अर्तिका ने ऑप्शनल में मेडिकल साइंस चुना था. अर्तिका ने तैयारी के दौरान किताबों को बहुत सीमित रखा और उन्हीं किताबों से बार-बार टॉपिक्स पूरे होने पर रिवीज़न किया.

अर्तिका ने स्मार्ट तरीक़े से तैयारी करते हुए उन विषयों को जिसमे परीक्षा में बहुत कम वेटेज़ दिया जाता है ओर वे बहुत लेंदी और टाइम टेकिंग हैं उन्हें छोड़ते हुए मुख्य विषयों की तैयारी में अपना समय लगाया. अर्तिका का कहना है कि जीएस वन में स्टैट्स बहुत आता है. जीएस टू की किताब के बारे में उनका कहना हैं कि जो भी किताब आप पढ़ रहे हैं उसे प्री परीक्षा से पहले ही खत्म कर लीजिए.

इस परीक्षा की तैयारी में पीआरएस वेबसाइट, पीआईबी और योजना बहुत ज़्यादा जरूरी हैं. मुख्य परीक्षा के लिए एआरसी और इकोनॉमिक सर्वे बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक्स हैं. इस परीक्षा के लिए बेसिक्स तैयार करने हेतु एनसीईआरटी जरूरी है साथ ही स्टूडेंट स्पेस और सैटेलाइट्स संबंधित टॉपिक्स पर भी अपनी नज़र बनाए रखें क्योंकि यही आपका स्कोर बढ़ाते हैं.

यह भी पढ़े : IAS VIPIN GARG : कोचिंग के एंट्रेंस एग्जाम मे फैल होने से लेकर आईएएस टॉपर बनने तक का सफर

यूपीएससी स्टूडेंट को अर्तिका की सलाह

अर्तिका कहती हैं की आप मोटिवेशन के लिए टॉपर्स के इंटरव्यू ज़रूर देखें पर उनकी सलाह को अपनी कमियों ओर खूबियों के बारे में ध्यान रखते हुए फॉलो करें.

यूपीएससी की परीक्षा आपके ज्ञान से ज्यादा आपके निश्चय, ओर आपकी पर्सनेलिटी का टेस्ट है. इसलिए इस परीक्षा की तैयारी करते वक्त खुद का विश्वास न खोयें.

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करते वक्त कई बार आपको असफलता का डर लगेगा, साथ ही ऐसा भी हो की आपको बुरा भी फील हो कि क्यों आप अपनी अच्छी सी जिंदगी छोड़कर इसमें कूद गए परंतु इस बात से कभी भी घबराएं नहीं. ये सब ह्यूमन बिहेवियर में एकदम नॉर्मल है. जब भी व्यक्ति को डर लगता है, तो उसे घबराहट होती है, ओर यही घबराहट आपको और अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है और इससे आपको सफलता मिलती है.

अर्तिका कहती है कि अगर आपका मेन्स का कोई एक पेपर खराब हो जाए तो उसे भूल जाएं और अगले पेपर की तैयारी में पूरी जान लगा दें.

इंटरव्यू के बारे में पूछने पर अर्तिका कहती है कि इसके लिए आपका कांफिडेंट होना बहुत आवश्यक है. अगर इंटरव्यू के दौरान आपको किसी प्रश्न का उत्तर नहीं आ रहा हो तो ऐसे में आप आराम से बिना घबराए सामने वाले को सॉरी बोल दें इसमें किसी भी प्रकार से परेशान होने की कोई बात नहीं.

इंटरव्यू में आपके ज्ञान की बजाय आपकी पर्सनैलिटी का टेस्ट होता है क्योंकि ज्ञान तो आपके पास पहले से ही है तभी तो आप वहां तक पहुंचे हैं. आप अगर इंटरव्यू में कॉन्फ़िडेंट दिखना चाहते है तो उसके लिए इंटरव्यू की प्रेक्टिस के लिए कुछ मॉक इंटरव्यूज़ को भी ज्वॉइन कर सकते हैं.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके.

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here