IAS AKSHAT JAIN : सफलता को तरसते अक्षत ने कैसे तय किया आईआईटी से यूपीएससी तक का सफर

0
197
IAS AKSHAT JAIN

“बड़ा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए बस एक मजबूत सोच की ज़रुरत होती है”

IAS AKSHAT JAIN SUCCESS STORY : आज की यह सफलता की कहानी एक ऐसे लड़के अक्षत जैन (IAS AKSHAT JAIN) की है जो अपने जीवन मे किसी समय मे एक छोटी सी सफलता के लिए भी तरसते थे किन्तु उन सब परिस्थितयो के बावजूद उन्होंने अपने जीवन की दिशा को बदलते हुए पहले तो आईआईटी क्लीयर की उसके बाद मे यूपीएससी की परीक्षा पास करते हुए आज वे एक आईएएस ऑफिसर है.

IAS AKSHAT JAIN की फैमिली

हमारे देश मे पढ़ी-लिखी ओर शिक्षित परिवार का होना, ओर उसमे भी माता ओर पिता दोनों का अच्छे पदों पर होना किसी आशीर्वाद से कम नहीं है. असल जिंदगी मे बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें ऐसी अच्छी जिंदगी नसीब होती है. किन्तु दूसरी ओर जब आपके घर में पहले से सफल लोग होते है तो आपके ऊपर भी सदैव श्रेष्ठ करने का दबाव भी बना रहता है.

ऐसा ही कुछ अक्षत जैन के साथ भी हुआ क्योंकि अक्षत के पिता पिता डी.सी जैन एक आईपीएस ऑफिसर है ओर उनकी मां सिम्मी जैन आईआरएस ऑफिसर है ऐसे मे अक्षत पर भी बचपन से ही हर क्षेत्र मे अव्वल आने की अपेक्षा होना स्वाभाविक था. चलिए जानते हैं अक्षत की सफलता की कहानी.

यह भी पढे : IAS ARUN RAJ : सेल्फ स्टडी द्वारा पहले ही प्रयास में आईआईटी के साथ यूपीएससी पास कर बने आईएएस ऑफिसर

IAS AKSHAT JAIN

अक्षत जैन की शिक्षा (IAS AKSHAT JAIN EDUCATION)

एक शिक्षित ओर सिविल सेवक परिवार से संबंधित होने के नाते अक्षत के लिए बचपन से ही कम नंबर प्राप्त करना या सफल न होना बुरे सपने के समान थीं. अपने सम्पूर्ण प्रयासों के बावजूद वे पढ़ाई में एक एवरेज स्टूडेंट थे. ओर अपनी छोटी उम्र से ही उनपर सफल न हो पाने की स्थिति मे क्या होगा जैसे विचार हावी होने लगे थे.

अक्षत ने अपनी माध्यमिक शिक्षा जयपुर के इंडिया इंटरनेशनल स्कूल से प्राप्त की है ओर वे स्कूल की पढ़ाई मे औसत ही रहे ओर हाईस्कूल में पहली बार उनके काफी अच्छे अंक आये थे. ओर इन अच्छे नंबरों से ही उन्हे  अपनी जिंदगी मे पहली बार यह लगा कि वे भी कुछ बड़ा हासिल कर सकते है.

किन्तु इसके बाद के दो सालों को अक्सट अपनी जिंदगी का सबसे खराब टाइम मानते हैं. क्योंकि अक्षत ने हमेशा से इंजीनियर बनने का सपना देखा था ओर इसलिए ग्यारहवीं में जेईई के लिए कोचिंग ज्वॉइन कर ली. इन दो सालों में अक्षत ने अपनी और से खूब मेहनत की परंतु इस सबके बावजूद उनका परफॉर्मेंस नहीं सुधरा.

अक्षात स्वयं यह नहीं समझ पा रहे थे कि आखिर उमसे कहां पर गलती हो रही है क्योंकि वे अपने प्रयास के बावजूद बार-बार असफल हो रहे थे. यही वो समय था जब अक्षत अंदर से पूरी तरह टूट चुके थे ओर उनके आसपास वालों को भी यह लगने लगा था कि अक्षत जेईई का एक्जाम क्रैक नहीं कर सकते.

किन्तु इन सबके बावजूद अक्षत ने अपनी असफलताओं पर फोकस न करते हुए जेईई दिया. ओर इस बार अक्षत ने चार हजार के करीब रैंक लाते हुए जेईई एक्जाम को पास कर लिया ओर इस तरह से अक्षत को आईआईटी गुवाहटी मे एडमिशन मिला.

यह भी पढे : IAS SPARSH GUPTA : बिना आंखों के देखा आईएएस ऑफिसर बनने का सपना और उसे किया साकार

IAS AKSHAT JAIN

दूसरे प्रयास मे हुआ यूपीएससी मे सिलेक्शन

बचपन से लगातार असफलता का मुंह देख रहे अक्षत के आईआईटी में सिलेक्शन ने उनके जीवन के प्रति अपने नजरिये को काफी हद तक बदल दिया था ओर उनके अंदर एक नए जोश का संचार हो गया. इस नये अक्षत ने पूरे जोश के साथ अपने ग्रेजुएशन के चौथे साल से ही सिविल सर्विसेस की तैयारी शुरू कर दी.

अक्षत बचपन से ही अपने माता-पिता से बहुत ज्यादा प्रभावित थे और जब वे समझने लगे तब से ही उन्होंने तय किया था कि वे भी इसी क्षेत्र में अपना कैरियर बनाएंगे. अक्षत ने वर्ष 2017 में यूपीएससी का पहला अटेम्ट दिया, यह प्रयास उनके लिए ट्रायल था क्योंकि अक्षत ने केवल तीन महीने की तैयारी करते हुए ही यह परीक्षा दी. अपने पहले प्रयास मे वे दो अंक से रह गए थे परंतु इससे उनके कॉन्फिडेंस मे इजाफा हुआ ओर उन्हे लगा की वे अगली बार इस परीक्षा को पास कर लेगे.

इसके बाद अक्षत ने अगले प्रयास के लिए अपनी जान लगा दी और वर्ष 2018 में न केवल यूपीएससी परीक्षा पास की बल्कि इसमे ऑल इंडिया रैंक 02 प्राप्त करते हुए टॉपर भी बने. हालांकि अक्षत को, अपने चयन का तो भरोसा था किन्तु इस बात का यकीन नहीं था की उन्हे नंबर दो रैंक मिलेगी.

यह भी पढे : IFS PUJYA PRIYADARSHINI : बार-बार मिल रही असफलता का सामना कर बनी आईएएस ऑफिसर

IAS AKSHAT JAIN

यूपीएससी की शुरुआत बेसिक्स से करे

अक्षत अपनी यूपीएससी की तैयारी के बारे में बात करते हैं कि सबसे पहले तो आप एग्जाम का सिलेबस अच्छे से देखें. क्योंकि अक्सर स्टूडेंट्स शिकायत करते हैं कि यूपीएससी का सिलेबस सागर के समान है किन्तु वे ऐसा नहीं मानते.

अक्षत के अनुसार यूपीएससी ने सिलेबस को बहुत ही अच्छे तरीके से डिफाइन किया है. ओर अक्षत ने भी सबसे पहले सिलेबस को देखा और उसे समझते हुए एक-एक चीज तैयारी की.

अक्षत ने अपनी तैयारी के दौरान सबसे पहले शॉर्ट नोट्स बनाएं जो की उन्हे परीक्षा से पहले बहुत काम आए. इसी के साथ वे जमकर आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस भी करते थे. अक्षत मानते है कि इस एग्जाम में सफल होने के लिए आंसर राइटिंग का बहुत महत्व है.

अक्षत तैयारी के दौरान पहले किसी विषय के कुछ हिस्से को तैयार करते ओर  उसका टेस्ट देकर देखते थे. इस प्रकार से उन्होंने अपनी तैयारी के दौरान बहुत सारे टेस्ट दिए.

यह भी पढे : IAS MAMTA POPAT : चार बार इंटरव्यू ओर परीक्षा मे असफल होने से लेकर आईएएस टॉपर बनने तक का सफर

IAS AKSHAT JAIN

सीमित किताबों से करे तैयारी

अक्षत का कहना है कि स्टैंडर्ड बुक्स के बारे में हर किसी को पता है इसलिए उन्हीं से तैयारी करें और ज्यादा किताबों के चक्कर में न पड़ें. यूपीएससी की तैयारी के लिए ऑनलाइन सोर्सेस का सोच समझ कर सिलेक्टिव तरीके से इस्तेमाल करे क्योंकि  अगर आप इसमे डूब गए तो निकल नहीं पाएंगे.

अक्षत के अनुसार ऑनलाइन तैयारी के लिए कुछ वेबसाइट्स काफी अच्छी हैं, स्टूडेंट चाहते तो उनका इस्तेमाल कर सकते है किन्तु इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप हर दूसरी साइट पढ़ने लगें. वरना आपका ज्यादातर समय ऐसे ही व्यर्थ चला जाएगा.

प्री और मेन्स की तैयारी साथ करे

अक्षत का कहना है कि आप कभी भी प्री और मेन्स की तैयारी अलग-अलग न करें बल्कि दोनों को एक साथ तैयार करते चलें. साथ ही यह कोशिश करें कि आपके द्वारा ऑप्शनल और जीएस प्री के लिए डेडिकेटेड तैयारी शुरू करने के पहले समाप्त हो जाएं क्योंकि इसी की तैयारी मे सबसे अधिक समय लगता है.

न्यूज पेपर पढ़ने के बारे मे अक्षत कहते हैं कि एक ही न्यूज को पेपर पढ़ें और काभी भी इसके नोट्स बनाने के चक्कर में न पड़ें अन्यथा तैयारी के लिए समय कम पड़ जाएगा. हाँ कोई खास विषय हो तो आप उसके नोट्स बना लें किन्तु यह ध्यान रहे कि पेपर पढ़ने में दिन के एक से डेढ़ घंटे से अधिक समय न दे.

यह भी पढे : IAS NONGJAI MOHAMMAD ALI AKRAM SHAH : 2019 बैच से बने मणिपुर के दूसरे मुस्लिम आईएएस ऑफिसर

IAS AKSHAT JAIN

यूपीएससी स्टूडेंट को अक्षत की सलाह –

अक्षत यूपीएससी स्टूडेंट को सलाह देते है की इस परीक्षा की तैयारी के दौरान कभी भी अपने विश्वास न डगमगाने दें. तैयारी के दौरान कई बार आपको लगेगा कि आपका सिलेबस ही पूरा नहीं हो रहा है ओर ऐसे मे दूसरे स्टूडेंट मुझसे आगे निकल जाएंगे किन्तु आप इन विचारों को स्वयं पर हावी न होने दे.

आप अपनी तरफ से बेस्ट देने का प्रयास करें और स्वयं को हर समय मोटिवेटेड रखें ओर यूपीएससी पास करने एक लिए एक उद्देश्य जरूर बनाए क्योंकि यही उद्देश्य आपके अंदर समय-समय पर हिम्मत पैदा करता रहेगा.

यूपीएससी की स्ट्रेटजी बनाते समय अपनी कमियों ओर क्षमताओ का ध्यान रखते हुए सोच-समझकर प्लानिंग करे क्योंकि यही आपको सफलता के मार्ग पर ले जाती है. टॉपर्स के इंटरव्यू जरूर देखें ओर उससे गाइडेंस भी लें किन्तु उसे कभी भी कॉपी न करें.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके. 

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here