IAS YOGESH PATIL : अपनी कड़ी मेहनत के दम पर दो बार पास की यूपीएससी की परीक्षा

0
126
IAS YOGESH PATIL

“सफल होने के लिए तैयार रहना बहुत जरुरी है।”

Success Story Of IAS Yogesh Patil : यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में हर सफल उम्मीदवार की सफलता के पीछे कोई न कोई कहानी ज़रूर होती है लेकिन यूपीएससी परीक्षा 2019 में ऑल इंडिया रैंक 63 हासिल कर आईएएस बनने वाले योगेश पाटिल (IAS YOGESH PATIL) की सफलता अपने आप में विशेष है.

योगेश पाटिल ने यूपीएससी परीक्षा में लगातार दो बार सफलता प्राप्त की. साल 2018 में उन्होंने यूपीएससी परीक्षा में ऑल इंडिया रैंक 201 प्राप्त की, ओर इसके बाद उनका चयन आईपीएस (IPS) की सेवा के लिए हुआ. किंतु उनका सपना शुरू से ही एक आईएएस अफसर बनने का था. इसलिए उन्होंने दोबारा से यूपीएससी की परीक्षा दी और दूसरी बार भी सफलता प्राप्त करते हुए अपने सपने को पूरा किया.

यह भी पढ़े : IAS V K VIVEK : अपनी माँ के संघर्ष से प्रेरित होकर पास की यूपीएससी की परीक्षा

IAS YOGESH PATIL

इंजीनियरिंग के बाद यूपीएससी में आए

योगेश पाटिल मूल रूप से महाराष्ट्र के पुणे के रहने वाले है. योगेश पाटिल ने यूपीएससी में आने से पहले इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है. वे इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ही यूपीएससी में आने का मन बना चुके थे. ऐसे में उन्होंने यूपीएससी के लिए सटीक रणनीति और कड़ी मेहनत के साथ तैयारी करते हुए अपने दोनों प्रयासों में सफलता प्राप्त करके दिखाई.

योगेश पाटिल का मानना है कि लोगों के दिमाग में यूपीएससी को लेकर कई गलतफहमियां है सबसे पहले उन्हें दूर करना बहुत जरूरी है. कई लोगों को पता नही क्यों ऐसा लगता है कि इस परीक्षा को पहले प्रयास में पास ही नहीं किया जा सकता, जबकि हक़ीक़त में ऐसा नहीं है.

अंग्रेजी के बारे में IAS YOGESH PATIL के विचार

योगेश पाटिल कहते हैं कि अधिकतर लोगों को ऐसा लगता है कि यूपीएससी में ऐसे लोग ही सफलता प्राप्त कर सकते हैं जो हमेशा से अंग्रेजी मीडियम में पढ़ें हैं और उनकी इंग्लिश बहुत मजबूत हो.

योगेश की शुरुआती शिक्षा मराठी मीडियम से होने के बावजूद उन्होंने पहले प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास कर ली. वे यूपीएससी परीक्षा के बारे में कहते हैं कि यहां जीरो से शुरुआत करके भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : IAS NANDINI MAHARAJ : नौकरी के साथ तैयारी कर बनी IAS TOPPER

IAS YOGESH PATIL

योगेश ने यूपीएससी परीक्षा से जुड़े कुछ मिथक के बारे में अपनी राय रखी है

भ्रांतिया – पहले अटेम्पट में पास नहीं हो सकते

सच्चाई  यूपीएससी की परीक्षा को लेकर अक्सर स्टूडेंट्स ऐसा मानते है की इस परीक्षा में पहली बार में सफलता हासिल नहीं की जा सकती, जबकि हक़ीक़त में ऐसा नहीं है. यूपीएससी की परीक्षा में सफलता पूर्ण रूप से आपकी मेहनत और सही स्ट्रेटजी पर निर्भर करती है.

अगर आप सही तरीक़े से तैयारी करते है तो पहली बार में परीक्षा पास कर सकते है बहुत से कैंडिडेट ने पहले प्रयास में सफलता प्राप्त करते हुए इसे पहले भी कई बार साबित किया हैं.

भ्रांतिया – क्षेत्रीय भाषा के स्टूडेंट के लिए होती है मुश्किल

सच्चाई – इस मिथक के बारे में भी योगेश पाटिल का कहना है आपको सफलता मिलेगी या नही इसका इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस भाषा में पढ़ें हैं या किस भाषा में परीक्षा देने का चुनाव कर रहे है. बस आप भाषा का चुनाव करने से पहले यह ज़रूर देख ले की जिस भाषा को आप चुन रहे हैं, उसमें स्टडी मैटीरियल उपलब्ध है भी या नही.

आपकी इंग्लिश को सुधारना इतना भी मुश्किल नहीं है. योगेश ने स्वयं अपनी अंग्रेज़ी इंग्लिश के न्यूजपेपर ग्रेजुएशन के दिनों से पढ़ना शुरू करते हुए नेट पर इंग्लिश के वीडियो देख – देखकर सुधारी थी. ऐस बिल्कुल भी नही है की आप इंग्लिश के ज्ञान के बिना चयनित नहीं हो सकते, लेकिन आपको थोड़ी बहुत जानकारी इस भाषा की भी होनी जरूरी है.

भ्रांतिया  – पिछड़े इलाक़े वालों के लिए यूपीएससी पास करना नही है आसान

सच्चाई – योगेश पाटिल का कहना है कि इस परीक्षा में सफलता ओर असफलता का इस बात से भी कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौनसे इलाक़े के रहने वाले हैं. आप चाहे किसी भी इलाक़े से संबंध रखते हो आपको सिर्फ़ इस परीक्षा की तैयारी पूर्ण समर्पण के साथ करनी है, यूपीएससी की तैयारी के लिए हर किसी को एक ही स्तर से शुरुआत करनी होती है.

सभी स्टूडेंट को सफलता प्राप्त करने के लिए मेहनत करनी पड़ती है. योगेश पाटिल खुद भी गांव से हैं परंतु इसके बावजूद अपने पहले दोनों प्रयास में यूपीएससी परीक्षा में सेलेक्ट हुए.

यह भी पढ़े : IAS MOHAMMAD ABDUL SHAHID : लगातार 4 बार असफलता प्राप्त करने के बाद पाँचवी बार में बने IAS OFFICER

IAS YOGESH PATIL

भ्रांतिया – सभी विषयों के नोट्स बनाना है जरूरी

सच्चाई – अगर आप भी इस भ्रांति में है की आपको सभी विषयों के नोट्स बनाने है तो इस भ्रम में न फँसे क्योंकि अगर आप सभी विषयों के नोट्स बनाएंगे तो उस स्थिति में आपका बहुत अधिक समय खराब हो जाएगा. इससे बेहतर होगा की आप कुछ महत्वपूर्ण विषयों के नोट्स खुद बनाएं और कुछ दूसरों के नोट्स से या बिना नोट्स के काम चलाएं.

जैसे योगेश ने यूपीएससी की अपनी तैयारी के दौरान बनाए हुए नोट्स ऑनलाइन शेयर किए हुए हैं. अगर आप चाहे तो आप भी किसी और के नोट्स तैयारी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

भ्रांतिया – यूपीएससी में सफलता के लिए 14 से 15 घंटे पढ़ना जरूरी

सच्चाई – योगेश पाटिल कहते हैं की इस परीक्षा की तैयारी के लिए आपको कितने घंटे तक पढ़ाई करनी है यह आपकी अपनी क्षमताओं पर निर्भर करता है. यूपीएससी में सफलता के लिए जरूरी यह नहीं कि कितने घंटे पढ़े, बल्कि आपने जितने घंटे पढ़ा उनमे से कितने घंटे अधिक प्रोडक्टिव थे.

हर स्टूडेंट का अपना आईक्यू लेवल होता है जो की सभी का अलग होता है. किसी स्टूडेंट को कोई चीज़ जल्दी याद हो जाती है कोई उसे याद करने में अधिक समय लेता है. आप तैयारी के लिए अपनी क्षमताओं के अनुसार स्ट्रेटजी और टाइमटेबल बनाएं.

भ्रांतिया – यूपीएससी का सिलेबस बहुत ज़्यादा है

सच्चाई – यूपीएससी के सिलेबस के बारे में कई लोग कहते हैं कि यह अथाह सागर के जैसा है जिसमें सबकुछ आ जाता है पर योगेश कहते हैं की सच्चाई इसके बिल्कुल विपरीत है. यूपीएससी मेन्स का कोर्स थोड़ा ज्यादा है पर आप इस परीक्षा की तैयारी करते वक्त यूपीएससी की वेबसाइट से सिलेबस उठाएं और उसी के अनुसार अपनी तैयारी करें.

अगर आप सिलेबस के अनुसार नहीं पढ़ेंगे ओर हर चीज़ पढ़ने लगेंगे तो आप पढ़ते-पढ़ते परेशान हो जाएंगे किंतु तैयारी पूरी नही होगी. इसके अलावा आप पुराने सालों के प्रश्न-पत्र भी ज़रूर देखें, इनसे भी आपको सिलेबस को शॉर्ट-आउट करने या उसे समझने में बहुत अधिक मदद मिलेगी.

यह भी पढ़े : IAS VARJEET WALIA : बार-बार असफल होने के बावजूद नहीं मानी हार, आख़िर IAS बनकर ही रुके

IAS YOGESH PATIL

भ्रांतिया – यूपीएससी की तैयारी के लिए कोचिंग है जरुरी

सच्चाई – यूपीएससी की परीक्षा में सफलता के लिए यह बिल्कुल भी जरुरी नही कि आप लाखों रुपए खर्च करके कोचिंग करें. बल्कि इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए कई बार एक अच्छा मेंटोर होना ही आपके लिए काफी होता है आपका मेंटोर ऐसा होना चाहिए जो आपको ठीक से गाइड कर दे.

यूपीएससी की तैयारी से पहले इस परीक्षा को समझना, ओर उसके नेचर को समझना बहुत जरूरी है पर इसके लिए सिर्फ़ कोचिंग ही एक-मात्र तरीका नहीं है. यूपीएससी की परीक्षा में तीन चीजें जरूरी हैं ओर वो है – क्या पढ़ना है, क्या नहीं पढ़ना है और कैसे पढ़ना है. अगर आपको यह पता है तो सेल्फ स्टडी आपके लिए बेस्ट है.

भ्रांतिया – यूपीएससी पास करने के लिए इंटेलिजेंट होना है जरुरी

सच्चाई – योगेश पाटिल कहते हैं ऐसा भी जरूरी नहीं है की इस परीक्षा को पास करने के लिए आपका इंटेलीजेंट होना जरुरी है. अगर आप मेहनती होने के साथ इस परीक्षा के लिए जरूरी समर्पण करने के लिए तैयार हैं तो आपका पिछला एकेडमिक रिकॉर्ड कैसा था यह बिल्कुल भी मायने नहीं रखता. फिर चाहे दसवीं या बारहवीं में आपके कैसे भी अंक क्यों न हों.

भ्रांतिया – बहुत अधिक किताबें पढ़ना है जरूरी

सच्चाई – योगेश पाटिल कहते हैं की यूपीएससी की तैयारी के लिए सीमित होनी चाहिए वरना आप किसी भी विषय की तैयारी ठीक से नहीं कर सकते. रही न्यूज पेपर की बात तो उसे पढ़ना आपके लिए अच्छा है पर ऐसा भी नहीं है कि बिना उसके आपको सफलता नहीं मिल सकती.

करेंट अफेयर्स के जो कंपाइलेशन आते हैं आप अगर चाहे तो उन्हें भी पढ़कर यह एग्जाम आसानी से क्लियर कर सकते हैं. हालांकि न्यूज़ पेपर पढ़ना किसी भी लिहाज से गलत नहीं हिया बल्कि यह तो आपको किसी भी चीज़ को देखने का एक नया नजरिया देता है.

भ्रांतिया – यूपीएससी में सफलता के लिए हर विषय में अच्छा होना जरूरी है

सच्चाई – ऐसा नहीं है, की आपको यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए हर विषय में अच्छा होना अनिवार्य है बल्कि इसके विपरीत आपको सिर्फ़ अपने ऑप्शनल विषय में अच्छा होना जरूरी होता है. इसके अलावा बाकी के विषयों में अगर आप एवरेज भी हैं तो भी आप इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते है.

इस परीक्षा में जो विषय आपकी रैंक बनाते हैं वें हैं, ऑप्शनल, एथिक्स, निबंध और इंटरव्यू. इनके लिए आप जितना भी अतिरिक्त प्रयास कर सकते हैं, उसे जरूर करिए पर ऑलराउंडर बनने की भी जरूरत नहीं है.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके.

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here