IAS FAZLUL HASEEB : दो असफल प्रयासों के बावजूद नही मानी हार, तीसरी बार में ऐसे बनें UPSC टॉपर

0
108
IAS FAZLUL HASEEB

“कामयाबी उतनी बड़ी हो सकती है, जितनी बड़ी आपकी सोच।”

Success Story Of IAS Fazlul Haseeb : यूपीएससी परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक मानी जाती है ओर इस परीक्षा के बारे में हर कोई जानता है कि यूपीएससी परीक्षा का नेचर बहुत ही अनप्रिडिक्टेबल है. इस परीक्षा में स्टूडेंट को सफलता मिलेगी या नहीं या कब मिलेगी, इस बारे में पहले से कोई भी कुछ नहीं कह सकता है.

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे कैंडिडेट के हाथ में अगर कुछ है तो वह केवल एक चीज है और वह है अपने सम्पूर्ण समर्पण के साथ इस परीक्षा में पास होने के लिए ईमानदारी से अपना प्रयास करना.

हालांकि कई बार अपनी पूरी मेहनत ओर कोशिशों के बाद भी स्टूडेंट का सेलेक्शन नहीं होता क्योंकि यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे कैंडिडेट कुछ गलतियां कर रहे होते हैं.

ऐसे में आज की स्टोरी में जानते है कि यूपीएससी परीक्षा को पास करने के लिए क्या करना सबसे जरूरी है किंतु इसी के साथ इस बारे में जानने के साथ ही यह बात जानना भी बहुत जरूरी हो जाता है कि एक यूपीएससी कैंडिडेट को क्या करने से बचना चाहिए.

एक इंटरव्यू में साल 2017 के टॉपर फज़लुल हसीब (IAS FAZLUL HASEEB) ने यूपीएससी परीक्षा से जुड़े ऐसे ही बहुत सारे मुद्दों पर बात की.

यह भी पढ़े : IAS RAVI ANAND : कैसे तीसरे प्रयास में 79वीं रैंक प्राप्त कर बने IAS OFFICER

IAS FAZLUL HASEEB

दूसरों की नक़ल करने से सदैव बचे (IAS FAZLUL HASEEB)

फज़लुल हसीब यूपीएससी परीक्षा के बारे में अपनी बात शुरू करते हुए कहते हैं कि इस परीक्षा में सफल होने के लिए सबसे जरूरी है अपनी तैयारी के प्रति पूर्ण रूप से ईमानदार होना. आप यूपीएससी परीक्षा की गाइडेंस कहीं से भी लें लेकिन इसके लिए सारी जानकारी इकट्ठा करने के बाद उसे इंप्लीमेंट सदैव अपने अनुसार ही करें.

आप अपनी स्ट्रेटेजी बनाते वक्त, आपकी क्या स्ट्रेंथ है, किस एरिया में आपको समस्या होती है इन सभी बातों का आंकलन अवश्य करे. कभी भी किसी टॉपर के इंटरव्यू को देखर उसे कॉपी न करें. क्योंकि जो चीजें या जो स्ट्रेटजी किसी दूसरे व्यक्ति के लिए काम की है, वह आपके लिए भी ठीक उसी प्रकार से काम करेगी ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है.

किताबों का सेलेक्शन सिलेक्शन कैसे करे इस बारे में फज़लुल हसीब कहते हैं कि कुछ लोग एक विषय की न जाने कितनी सारी किताबें इकट्ठी कर लेते हैं लेकिन ऐसे लोगों के विपरीत उनका मानना है कि कम से कम सोर्स इकट्ठे करें और उन्हें ही जितना अधिक हो सके उतनी अधिक बार- रिवाइज करें.

इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने का बस एक ही तरीका है और वह है अधिक से अधिक रिवीजन. इसलिए यूपीएससी की तैयारी के दौरान उतनी ही किताबें इकट्ठी करें जिन्हें कि आप समय रहते खत्म कर पाए ओर उनका बार-बार रिवीजन हो सके.

यह भी पढ़े : IAS PRATIBHA VERMA : एग्जाम से पहले बार-बार बीमार होने वाली प्रतिभा ने ऐसे किया यूपीएससी में टॉप

IAS FAZLUL HASEEB

आंसर राइटिंग की प्रेक्टिस है जरुरी

फज़लुल हसीब यूपीएससी के दो प्रयासों में असफल हो चुके है ओर जिन दोनो प्रयासों में उनका सेलेक्शन नहीं हुआ उनकी सबसे बड़ी गलती वे मानते हैं उनके द्वारा आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस न करना. फज़लुल हसीब इस तैयारी के बारे में कहते हैं कि पढ़ता तो हर कोई है, नॉलेज भी बहुत सारे स्टूडेंट के पास होती है लेकिन उस पढ़े हुए को जब तक आप उचित प्रकार से कॉपी पर उतार नहीं पाते तब तक आपका पढ़ा हुआ सब बेकार है.

फ़ज़लुल हसीब यूपीएससी परीक्षा के बारे में कहते है कि तैयारी एक स्तर तक पहुंच जाने के बाद आप जितना अधिक हो सके उतनी अधिक आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करें. इससे आपको अपने उत्तरों में आपके द्वारा की गई कमियां पता चलेंगी. यही नहीं इससे आपकी लिखने की स्पीड भी बढ़ेगी क्योंकि अक्सर ज़्यादातर कैंडिडेट्स को इस बात को लेकर शिकायत रहती है कि परीक्षा के समय लिखने के लिए टाइम कम पड़ जाता है और इस वजह से उनका पेपर छूट जाता है.

यूपीएससी परीक्षा के दौरान आपका पेपर न छूटे इसके लिए सबसे अधिक प्रभावी तरीक़ा यह है कि आप बिलकुल परीक्षा वाले माहौल में पेपर दें और उसे तय समय में पूरा करने की पूरी कोशिश करें. पेपर देने के बाद आपका काम ख़त्म नही हो जाता है बल्कि इस बात का ध्यान ज़रूर रखें कि पेपर देने के बाद उसे एनालाइज अवश्य करें वरना आपके पेपर लिखने का कोई फायदा नहीं होगा. इन पेपरों को आप चाहे तो रिवीजन के लिए भी इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़े : IAS SANJITA MOHAPATRA : बार-बार असफल होने के बावजूद नही मानी हार ओर अंत में बनी UPSC टॉपर

IAS FAZLUL HASEEB

IAS FAZLUL HASEEB की यूपीएससी कैंडिडेट के लिए सलाह

फज़लुल हसीब यूपीएससी परीक्षा के बारे में यही कहते हैं कि इस परीक्षा को पास करने के लिए कड़ी मेहनत, धैर्य और त्याग की आवश्यकता सबसे अधिक होती है. इसी के साथ वे यूपीएससी कैंडिडेट्स को यह कहना भी नहीं भूलते कि आपके द्वारा अपनी जिंदगी के कुछ साल देकर दूसरे शब्दों में कहे तो कुछ साल दिन-रात मेहनत करने से अगर बाकी की जिंदगी बदली जा सकती है और आईएएस या ऐसी ही कोई बड़ी सेवा पाई जा सकती है तो यह किसी भी तरह से यह घाटे का सौदा नहीं है.

जब आप यूपीएससी परीक्षा के दौरान कड़ी मेहनत करते हुए हुए दूसरों की तुलना में आरामदायक जिंदगी नही जी रहे हों तो इस बात को भी ज़रूर याद रखें कि आपकी आगे आने वाली जिंदगी भी दूसरों से बहुत अधिक बेहतर होने वाली है.

आपके द्वारा की जा रही आज की यह मेहतन आपको आने वाले भविष्य में अवश्य ही फल देगी इसलिए मेहनत करने के लिए कभी भी परेशान न हों. यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के दौरान आप सदैव अपने ऊपर, अपने प्रयासों के ऊपर और सबसे अधिक जरूरी अपने सोर्सेस पर विश्वास रखें और अंत तक उन्हीं से तैयारी करते रहें.

कोई भी व्यक्ति इस दौरान चाहे आपको कुछ भी सलाह दे पर आप अपने द्वारा तय की गई राह पर निरंतर चलते रहे. इस एग्जाम को क्रैक करने के लिए सही राह पर चलना जितना अधिक जरूरी है उससे भी ज्यादा जरूरी है चलने के दौरान रास्ता न भटकना. इस प्रकार आप सही प्लानिंग और सही स्ट्रेटजी के साथ अगर कड़ी मेहनत करेंगे तो यूपीएससी परीक्षा में सफल जरूर होंगे.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके.

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here