NIRAJ GOEL : बिना पैसों के मेहनत की और खड़ा किया 82 हजार करोड़ का साम्राज्य

0
98
NIRAJ GOEL

NIRAJ GOEL SUCCESS STORY : किसी भी व्यक्ति के लिए असली ताक़त प्रेरणा ही है क्योंकि प्रेरणा के कारण ही मनुष्य कठिन से कठिन समय और बड़ी से बड़ी चुनौतियों का मुकाबला भी बिना हताश हुए आसानी से कर लेता है. किसी व्यक्ति के अंदर प्रेरणा का स्तर जितना ऊँचा होगा, उसकी असंभव को संभव करने की शक्ति भी उतनी ही प्रबल होगी.

हमारे लिए अफसोस की बात यह है कि आज आबादी का एक बड़ा हिस्सा ऐसी स्थिति अपना जीवन यापन कर रहा है जहाँ एक समय के बाद उनके भीतर की प्रेरणा धीरे-धीरे पूरी तरह से खत्म हो जाती है. ऐसी स्थिति में मनुष्य को अपने भीतर नई उर्जा और आशा का पुनः संचार करने के लिए जब भी हताशा हो उस समय प्रेरणादायक कहानियां अवश्य पढ़नी चाहिए.

आज की इस स्टोरी में हम आपके सामने एक ऐसे ही प्रेरणादायक शख्सियत नीरज गोयल (NIRAJ GOEL) की कहानी पेश कर रहे हैं, जो बिना किसी हताशा के कारोबार की संभावनाओं को तलाशते हुए अपने साथ बिना किसी धन-सम्पत्ति के भारत छोड़ते हुए विदेश रवाना हुए, और फिर वहाँ पर अपने अथक परिश्रम ओर आशा की बदौलत इतने बड़े साम्राज्य की स्थापना कर दी कि आज इनकी गिनती दुनिया के सबसे अमीर लोगों में होती है.

यह भी पढ़े : BHAGWAN GAWAI : मजदूर से मालिक तक का सफर तय कर लोगों के सामने पेश की कामयाबी की अदबुद्ध मिसाल

NIRAJ GOEL

NIRAJ GOEL की सफलता का बचपन ओर शिक्षा (Education)

इस स्टोरी में हम बात कर रहे हैं 44 साल की उम्र में दुनिया के सबसे युवा अमीरों की सूची में अपना नाम शुमार कराने वाले भारतीय मूल के टेक उद्यमी नीरज गोयल की सफलता के बारें में. नीरज गोयल लुधियाना के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में जन्में और पले-बढ़े. नीरज ने अपनी स्कूली पढ़ाई शिमला से की.

स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई पंजाब यूनिवर्सिटी से करते हुए अपना ग्रेजुएशन कम्प्लीट किया. साल 1988 में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक फाइंनेंस टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के साथ जुड़कर वहाँ पर काम करते हुए की. वहाँ पर काम करते-करते गोयल ने फाइंनेंस टेक्नोलॉजी डेवलप करने के साथ-साथ अनोखे ओर नए-नए प्रयोग भी किए.

नीरज गोयल ने फाइंनेंस टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री में काम करते हुए पहले तो इसमें महारत हासिल की और साथ-ही-साथ इस दौरान उन्होंने एक बड़ी बिज़नेस संभावनाओं को भी भांपा. कुछ समय बाद उन्होंने अपना कारोबार शुरू करने की दिशा में रिसर्च करने शुरू कर दिए और सिंगापुर को अपने इस काम के लिए सबसे बड़ा मार्केट पाया. इसी कड़ी में साल 2000 में उन्होंने एक बार फिर से खाली हाथ ही सिंगापुर की और अपना रुख किया. सिंगापुर में शून्य से शुरुआत करते हुए उन्होंने एक फाइंनेंस टेक्नोलॉजी फर्म की आधारशिला रखी.

यह भी पढ़े : KALPESH CHAUDHARY : गरीबी और विकलांगता को हराकर कैसे 11वीं पास लड़के ने खड़ी की करोड़ों की कंपनी

NIRAJ GOEL

टेक मार्केट में अपनी अलग पहचान बनाई

नीरज गोयल ने अपनी कंपनी के बैनर तले फाइनेंनशियल टेक्नोलॉजी और इंश्योरेंस सेक्टर में 50 से ज्यादा इनोवेशन करते हुए टेक मार्केट में अपनी एक अलग पहचान बनाई. शुरूआती सफलता के बाद उन्होंने इसे ओर आगे बढ़ाने के उद्येश्य से क्लोन एल्गो टेक्नोलोजी नाम से एक मल्टीनेशनल फाइनेंसियल एंड इंश्योरेंस फर्म की शुरुआत की. वर्तमान समय में नीरज गोयल इस कंपनी के प्रेसिडेंट हैं. इसी के साथ ही वो ड्रैगन होल्डिंग्स के चेयरमैन होने के साथ ओर भी कई कंपनियों में सीनियर पदों पर है.

नीरज गोयल ने सिंगापुर इनोवेशन लीग की स्थापना करने के अलावा गोयल वैंचर के तहत अन्य कई कंपनियों में निवेश भी किया है. आज नीरज गोयल का नाम सिंगापुर सहित पूरी दुनिया के सबसे सफल कारोबारी की सूची में प्रमुख रुप से शूमार किया जाता है. इतना ही नहीं उनके नाम देश के यंगेस्ट सेल्फ मेड बिलिनियर होने का खिताब भी है और वर्तमान समय में वे सिंगापुर के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति भी हैं. इनकी सालाना कमाई 12.95 बिलियन डॉलर (अर्थात् 82407 करोड़ रुपए) है. उनकी कंपनी एल्गोरिथम प्रोडक्ट बनाती है जो कि ट्रेडिंग के साथ क्रूड ऑयल के क्षेत्र में भी काम आता है.

ओर एक बात ओर आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करे ताकि लोग इससे प्रेरणा ले सके. 

तो दोस्तों फिर मिलते है एक और ऐसे ही किसी प्रेणादायक शख्शियत की कहानी के साथ…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here